जहाँ तक हम जानते है मोती हमें सीप के द्वारा समंदर में मिलता है और यह प्राकृितक रूप में मिलता है ! तो हमारी यह जानकारी अधूरी है । यह हमें 3 रूपों में मिलता है । आइये जानते है

 

प्राकृितक मोती

मोती एक प्राकृितक रतन है जो सीप से पैदा होता है। हर देश में मोतियों की माँग बढ़ती जा रही है।भारत में मोती का उत्पादन होता है लेकिन फिर भी यह उत्पादन मोती की मांग के अनुसार काम मात्रा में होता है इसलिए हमें विदेशो से मोती आयात करना पड़ता है । प्राकृितक रूप से मोती का निर्माण इन अवस्था में होता है जब सीप के मुँह खुल्ला रहने की मुद्रा में कोई रेत का कण,कीट आदि सीप में प्रवेश कर जाते है ओर फिर सीप उनको बहार नहीं निकाल पाते,इस बाहरी कण के कारण सीप चुभन होती है इस चुभन के कारण सीप के शरीर से इस कण पर द्रव निकलता रहता है और इस द्रव की परत चढ़ती रहती है । इसी तरीके से प्राकृितक मोती का उत्पादन होता है । प्राकृितक मोती कैल्सियम कार्बोनेट,जैविक पर्दार्थो से बना होता है। प्राकृितक मोती का आकार कोई निश्चित नहीं होता यह किसी भी आकार में हो सकता है । लैंस से बड़ा देखने मोती पर लाइनिंग दिखाई देती है । प्राकृितक मोती की एक और खासियत होती है की ये चिकना और ठंडा होता है ।

नकली मोती

यह मोती लैब में या फिर कारखानों में तैयार किया जाता है । नकली मोती कठोर प्लास्टिक या केमिकल के द्वारा बनाये जाते है । नकली मोती का आकार इच्छा अनुसार छोटा बड़ा और पूर्ण रूप से गोल बनाया गए सकता है । नकली मोती को स्लिवर पाउडर कोटिंग करके असली जैसा रूप दिया जा सकता है ।नकली मोती का आकार एक जैसा हो सकता है । लैंस से बड़ा देखने पर नकली मोती पर सिर्फ कोटिंग दिखाई देती है

उपजाये हुवे मोती (Cultured Pearl )

मोती की खेती (Pearl Farming) से प्राप्त मोती में और प्राकृितक मोती में कोई जयादा अंतर नहीं होता दोनों प्रकार के मोती एक समान ही होते है । दोनों में अंतर सिर्फ इतना होता है की प्राकृितक तरीके में मोती रेत के कण,कीट आदि के कण सीप के अंदर जाने से बनते है और खेती में यही प्रकिर्या हमें अपने हाथो से करनी होती है,इसमें सीप के अंदर सर्जरी करके नुकूलिएस डालना होता है फिर नुकूलिएस से सीप को चुभन होती है ओर इस चुभन के द्वारा तरल द्रव की परत चढ़ती रहती है इस तरह प्राकर्तिक मोती का निर्माण होता है । खेती से प्राप्त में मोती में हम मोती के साइज को कण्ट्रोल कर सकते है जबकि प्राकृितक मोती में ऐसा नहीं हो सकता । उपजाए हुए मोती में हम विभिन तरीको के डिज़ाइनर नुकूलिएस डाल कर डिज़ाइनर मोती प्राप्त कर सकते है जैसे भगवान गणेश,शिव आदि की आकर्ति के मोती प्राप्त कर सकते है ।डिज़ाइनर मोती 9 महीनो में तैयार हो जाते है, गोल मोती 18 -24 महीनो में प्राप्त होते है |

मोती की खेती की ट्रेनिंग Pearl Farming Traning हमारे द्वारा करवाई जाती है । ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे 9466916266 (Whatsup)